फ़्लैश गेम्स

फ्लैश अंत के कगार पर पहुंच चुका होता, लेकिन इसके इस्तेमाल से हमने जो शानदार गेम्स बनाये है, वे लंबे समय तक बने रहेंगे। इन क्लासिक फ़्लैश गेम्स को खेलें और पुराने अच्छे दिनों का फिर से अनुभव करें।
Vikings: War of Clans

कठोर भावनशून्य पीवीपी रणनीतिज्ञ संग्राम

Throne: Kingdom at War

मध्यकालीन पीवीपी रणनीतिज्ञ खोज

Heart of Vegas

स्लॉट मशीनों का मजेदार मेला

Klondike: The Lost Expedition

अलास्का में सिम बनाएँ और खोजें

आने वाले गेमों की अपडेट पाने के लिए सब्सक्राइब करें
बहुत मजेदार गेम जल्द ही आने वाले हैं! प्लेरियम प्ले पर लॉन्च होने पर उन्हें सबसे पहले आजमाएं।
गेमर्स के लिए प्लैटफ़ार्म
Plarium Play लॉन्चर
अपने सभी पसंदीदा गेमों को एक ही जगह डाउनलोड करें
चाहें आप पीसी पर हों या मैक पर, आप अपने डेस्कटॉप पर मुफ्त में गेम डाउनलोड करके उसका निर्बाध अनुभव कर सकते हैं।
सुलभ पीसी गेमिंग अनुभव पाएँ
अपने सिस्टम के अटकने की चिंता करे बगैर उच्च एचडी ग्राफिक्स और ऊंचे एफ़पीएस वाले गेमप्ले का आनंद ले। जल्दी प्रगति करने के लिए एक साथ कई गेम्स खेलें
जुड़ें विशव्यापी खिलाड़ी समुदाय से
प्लेरियम प्ले आपके कंप्यूटर पर गेम डाउनलोड करने के अतिरिक्त भी कई काम करता है। आप इसके माध्यम से अन्य खिलाड़ियों के साथ खेल के फीचर्स के बारे में ऑनलाइन बातचीत कर सकते हैं, नए दोस्त बना सकते हैं, और अपनी उपलब्धियां प्रदर्शित कर सकते हैं।

फ्लैश गेम्स कैसे विकसित हुए और जब आप सबसे अच्छे फ़्लैश गेम्स खेलने का निर्णय लेते है तो आप उनमें क्या पाने की उम्मीद कर सकते है? इस बारे में अधिक जानने के लिए पढ़ें की ये आज की प्रसिद्ध गेमिंग तकनीक कैसे बन गए।

फ़्लैश गेम्स क्या हैं?

फ्लैश गेम्स एक्शन स्क्रिप्ट में लिखे जाते है और ये ऑनलाइन खेले जाने वाले सबसे प्रसिद्ध गेम्स में से एक है। ये आमतौर पर सामान्य ब्राउज़र तकनीक पर या प्लग-इन्स के माध्यम से चलते हैं। इस तकनीक की सबसे अनूठी विशेषताएं इसकी पोर्टेबिलिटी, लचीलापन और सुलभता है: यदि किसी डिवाइस पर वेब ब्राउज़र उपलब्ध है, तो उस पर ऑनलाइन फ़्लैश गेम्स खेले जा सकते है। इसके अलावा, आसान, सहज इंटरफ़ेस का अर्थ है कि कोई भी डेवलपर इसका उपयोग कर सकता है क्योंकि इसकी अवयव निष्पक्षता के कारण इस पर प्रयोग करना आसान होता है।

हालांकि, जब आईओएस उपकरणों की बात आती है, तो इसकी कुछ सीमाएं हैं। तकनीकी रूप से, आइफोन और आइपैड फ़्लैश गेम्स को सपोर्ट नहीं करते है। हालाँकि, थर्ड-पार्टी एप्लिकेशन और प्लग-इन अभी भी इन हजारों ऑनलाइन वेब ब्राउज़र गेम्स तक एक्सेस प्रदान कर सकते है।

फ्लैश और ब्राउज़र गेम्स का इतिहास

फ्लैश गेमिंग क्रांति 1996 में शुरू हुई और 20 से अधिक वर्षों तक चली। इस तकनीक का संचालन 31 दिसंबर, 2020 को औपचारिक रूप से समाप्त हो जाएगा। क्यों? 2017 में, एडोब(Adobe) ने घोषणा की कि यह फ्लैश(Flash) का सपोर्ट करना बंद कर देगा। इसका मतलब है कि ऑनलाइन फ़्लैश गेम्स धीरे-धीरे ख़त्म हो जाएँगे।

डेवलपर्स को उनकी वेबसाइटों और गेम्स का पुनर्निर्माण करने का समय देने के लिए, एडोब(Adobe) ने अपनी अंतिम समय सीमा तीन साल निर्धारित की है। तब से, इसके समृद्ध इतिहास को संरक्षित करने के लिए विभिन्न परियोजनाएं, पोर्ट और सिस्टम सामने आए है। कई डेवलपर्स ने यह सुनिश्चित किया है कि HTML5, जिसे बहुत से लोगों द्वारा फ्लैश का उत्तराधिकारी माना जाता है, उस पर स्थानांतरण के द्वारा ये गेम्स निर्बाध रूप से चलते रहेंगे और खिलाड़ी अपनी प्रगति को सुरक्षित करने में सक्षम होंगे।

वास्तव में, दो दशकों से अधिक समय के विकास के कारण, इसे किसी न किसी रूप में जीवित रखना तर्कसंगत है। यह तकनीक कहां से आई है, इसका कुछ परिप्रेक्ष्य देने के लिए, यहां फ्लैश का संक्षिप्त इतिहास दिया गया है।

1996: पहला फ़्लैश प्लेयर 1996 में सामने आया। इसका उद्देश्य कुछ ऐसा बनाना था जो उस समय की वेबसाइटों के लिए मीडिया प्लेयर का प्रतिद्वंद्वी बन सके। पहले फ़्लैश प्लेयर में संशोधन हुआ और इसमें फ्रेम-दर-फ्रेम एनीमेशन टूल जोड़ा गया। इसके परिणामस्वरूप एक मीडिया प्लेयर बना, जिसका उपयोग वेब ग्राफिक्स एनिमेशन बनाने के लिए किया जा सकता था।

1997: तथाकथित "एप्लेट्स" का शुभारंभ, जिसने एनिमेशन की सुविधा दी और, अंततः, जावा प्रोग्रामिंग भाषा आधारित फ्लैश का उपयोग करके गेम्स बनाए जाने लगे। उन्होंने शुरुआती प्रतिस्पर्धा पेश की, जिसने फ्लैश के दीवाने लोगों को अपनी प्रोग्रामिंग भाषा विकसित करने के लिए प्रेरित किया।

2000: डेवलपर्स ने गेम्स के साथ प्रयोग करने के लिए नई फ्लैश प्रोग्रामिंग भाषा का उपयोग किया। ऐसी साइटों का निर्माण होने लगा जो कंपनियों को अपने उत्पादों को लोगों के साथ साझा करने के लिए प्लेटफ़ॉर्म की पेशकश करती थीं। उसी समय, मुफ्त फ़्लैश गेम्स को भुगतान वाली सामग्री लिए एक सेतु के रूप में देखा जाने लगा। संक्षेप में, सर्वश्रेष्ठ फ़्लैश गेम्स, भुगतान वाले गेम्स के डेमो संस्करण थे, जिन्हें खिलाडी खरीद सकते थे।

शुरुआत करने के लिए इसमें मौजूद कम बाधाओं ने भी डेवलपर्स को प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया। फ्लैश एक नई उपलब्धि थी, जिसने ब्राउज़र गेम्स को आसानी से सुलभ बना दिया। प्रौद्योगिकी की क्षमताओं के कारण लगभग सबकुछ संभव लग रहा था। बड़ी कंपनियां और स्वतंत्र डेवलपर अपनी रचनाओं का निर्माण और अपलोड पहले की तुलना में ज्यादा सहजता से कर सकते थे। इसके अलावा, इस समय बढ़िया सामग्री बनाने के अति उत्साह के कारण शैलियों, विषयों और गेम प्रक्रिया के समृद्ध चित्रपट का निर्माण हुआ।

2003: प्रीमियम और मुफ्त फ़्लैश गेम्स की सुलभता में 2003 में सुधार हुआ। खिलाड़ी एक लिंक पर क्लिक करके गेम का आनंद ले सकते थे, या ईमेल या चैट के माध्यम से एक लिंक भेजकर ब्राउज़र फ़्लैश गेम्स को साझा कर सकते थे।

2004-2010: फ्लैश वेबसाइटें और, उनके साथ, फ्लैश गेम्स जंगल की आग की तरह बढ़ने लगे। हजारों सामयिक खेलों के साथ विशाल गेम समूहों का निर्माण हुआ। डेवलपर्स अपनी पसंद की सामग्री बनाकर खुश थे: यदि उनके फ़्लैश गेम्स एक भू भाग में एक वेबसाइट पर लोकप्रिय नहीं होते, तो उनके पास दर्जनों और भी जगहें थीं, जहां वे दर्शक पा सकते थे। अपनी पसंद के अनुसार काम करने की इच्छा ने ऑनलाइन फ़्लैश गेम्स को बेहद विविध बना दिया।

पहेलियों वाले गेम और शूट देम अप से लेकर आसान मल्टीप्लेयर फ़्लैश गेम्स तक, सब कुछ संभव था। दशक के अंत तक, फ्लैश का समर्थन करने वाले सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के विकास ने डेवलपर्स को लाखों संभावित खिलाड़ियों तक एक्सेस प्रदान किया और आय का बड़ा आधार प्रदान किया। इसने फ्लैश को एक आकर्षक विकल्प बना दिया और कंपनियों को अधिक गंभीरता वाले गेम बनाने के लिए प्रोत्साहित किया, जिसके कारण फ्री-टू-प्ले मॉडल के साथ हार्डकोर मल्टीप्लेयर फ्लैश गेम्स में वृद्धि हुई।

2010: एप्पल के स्टीव जॉब्स ने 2010 में एक पत्र लिखा था जिसमें बताया गया कि उनके प्लेटफ़ॉर्म पर फ़्लैश गेम्स की अनुमति क्यों नहीं है। उसने महसूस किया कि ब्राउज़र गेम्स डेस्कटॉप के लिए बढ़िया थे, लेकिन मोबाइल के लिए नहीं। जॉब्स के मुताबिक, टच इंटरफेस इसके अनुकूल नहीं था और फ्लैश गेम्स आईफोन की बैटरी खत्म कर देते थे।

यह फ्लैश के लिए मौत की घंटी थी। जैसे-जैसे एप्पल विकसित होता गया और मोबाइल गेमिंग का कद बढ़ता गया, फ्लैश गेम्स के साथ आईफोन की असंगति का मतलब था कि इन गेम्स का प्रभुत्व पहले की तुलना में कम था।

2012: आईफोन के विकास और इंटरनेट की विविधता का मतलब था कि वेबसाइटों को अधिक व्यापक श्रेणी के उपकरणों का समर्थन करना था। फ़्लैश गेम्स हर तरह के उपकरणों के अनुरूप नहीं थे। इसका मतलब यह था की इस तकनीक ने डेवलपर्स के बीच अपना आकर्षण खोना शुरू कर दिया, जिसके परिणामस्वरूप खिलाडियों का मोह भी कम हो गया।

2013-2020: पहले की तुलना में अब फ़्लैश गेम्स में कम रोमांच था, लेकिन इस शैली की सामग्री की गुणवत्ता में सुधार जारी रहा। यहां तक कि मुफ्त फ़्लैश गेम्स भी शानदार हैं। तेज़ इंटरनेट कनेक्शन ने डेवलपर्स को ग्राफिक्स के साथ जटिल, फीचर्स से भरे, मल्टीप्लेयर फ़्लैश गेम्स बनाने में सक्षम बनाया है जो किसी भी अन्य प्लेटफॉर्म को टक्कर दे सकते है।

कुछ लोगों द्वारा गेमिंग में फ्लैश को "मूल इंडी(स्वतंत्र) परिदृश्य" के रूप में वर्णित किया गया है। हालांकि, फ़्लैश गेम्स का प्रभाव बहुत अधिक है। कई मायनों में, फ्लैश ने टॉवर की रक्षा शैली को जन्म दिया और आज के कई शीर्ष स्तरीय मोबाइल गेम्स में हम जो गेम प्रक्रिया देखते हैं वे इसी तकनीक का उपयोग करके लोकप्रिय हुए थे।

भविष्य: फ्लैश को बचाना

यहां तक कि जब एडोब ने फ्लैश का समर्थन बंद कर दिया है, तब भी इस तकनीक से निर्मित गेम चलते रहेंगे। मूल गेम को अन्य तकनीक पर स्थानांतरित करने के लिए केवल डेवलपर्स ही प्रयास नहीं कर रहे हैं: बल्कि फ़्लैश के सैकड़ों प्रशंसक भी फ्लैशपॉइंट पहल के तहत इसमें शामिल हो गए हैं, जो लोगों के विशाल समूह द्वारा इसके संरक्षण के प्रयास में प्रभावी योगदान देते है।

डेवलपर्स के पास स्वयं के गेम लॉन्चर बनाने से लेकर गेम्स को HTML5 पर स्थानांतरित करने तक के विकल्प मौजूद हैं और संभावित सुरक्षा जोखिमों को दूर करने के लिए गेम को ऑफ़लाइन करना भी इसमें शामिल है। यह जानना महत्वपूर्ण है कि आने वाले लंबे समय तक सर्वश्रेष्ठ फ़्लैश गेम्स के मौजूद रहने की संभावना है।

कौनसी चीज सर्वश्रेष्ठ फ़्लैश गेम्स को शानदार बनाती है?

गेम के निर्माण और इसे इतना लोकप्रिय बनाने में फ़्लैश के योगदान को सारगर्भित करना कठिन है। फिर भी, हमारे पास कुछ ऐसे कारण है, जिनकी वजह से कुछ मजेदार फ़्लैश गेम्स इतने शानदार हैं:

  • उन्हें समझना आसान है लेकिन उनमें पारंगत होना मुश्किल है। पिछले दो दशकों में फ़्लैश गेम्स के बीच कठिन प्रतिस्पर्धा का मतलब है कि डेवलपर्स उन सर्वोत्तम कार्यप्रणाली से सीख सकते है जो स्थापित की गई है। सबसे बेहतर फ़्लैश गेम्स नए कौशल सीखने के लिए पूरी तरह से अनुकूलित हैं इसलिए वे नए खिलाड़ियों को दूर किए बिना लगातार चुनौतीपूर्ण होते हैं।
  • बेहतरीन फ्लैश गेम्स को बहुस्तरीय और अधिक जटिल बनाने के लिए गेमप्ले का विकास हुआ। कई डेवलपर्स ने गेम-एज-ए-सर्विस मॉडल को अपनाया है, जहां वे अनुभव को मजेदार बनाये रखने के लिए नए फीचर्स और घटनाओं को पेश करते रहते हैं।
  • मजेदार फ्लैश गेम्स आमतौर पर रंग-रूप और अनुभव को बेहतरीन बनाने पर काम करते है। कुछ हार्डकोर गेम्स में बहुत विस्तृत ग्राफिक्स होते हैं, जबकि अन्य सामयिक गेम्स परिवर्तन(अवस्थांतर) पर अधिक ध्यान केंद्रित करते हैं और जिस विषय को वे प्रस्तुत करते हैं उसे सुदृढ़ करने पर कम ध्यान देते है।
  • ऑनलाइन फ़्लैश गेम्स की सबसे बड़ी ताकत उनकी मौलिकता है। डेवलपर्स ने कभी भी सीमाओं से परे काम करने या किसी ऐसे विषय का सामना करने से परहेज नहीं किया है जो दूसरे नहीं करते हैं। आज भी, सर्वश्रेष्ठ फ़्लैश गेम्स अद्वितीय गेम प्रक्रिया और नई पद्धति की पेशकश करते हैं जो उन्हें विशिष्ट बनाती है।

फ्लैश गेमिंग में विविधता

सभी के लिए ब्राउज़र-आधारित, मज़ेदार फ़्लैश गेम्स उपलब्ध हैं। आपके स्वाद और रुचियों के अनुरूप, आजमाने के लिए हजारों गेम्स मौजूद हैं। लड़ाई और साहसिक खेलों से लेकर पहेलियों वाले व अन्य गेम्स तक, खोज करने के लिए शैलियों की कमी नहीं है। इसलिए, यदि आप आसानी से सुलभ मनोरंजन की तलाश में हैं, तो कुछ बेहतरीन ऑनलाइन फ़्लैश गेम्स को आज ही आजमाना सुनिश्चित करें।